सोमवार, 20 जुलाई 2015

चंद फुटकर विचार

अगर मुझे लगा कि तुम मुझे भला समझते हो,
तो मैं भी तुम्हें भला ही समझूंगा। 
______________________________________________________

जब मैं अपने ही कर्मों के साथ होता हूँ 
तब कोई समस्या नहीं होती 
वो मेरे साथ कभी कपट नहीं करते 
नतीजा हमेशा उचित ही होता है।
दूध का दूध पानी का पानी। 
______________________________________________________

हमारे चारों ओर अनगिनत विचार और वस्तुएं बिखरी हुई हैं।
हर विचार या वस्तु को हर व्यक्ति अपनी ही समझ से देखता है।
इस कारण उन सब विचारों और वस्तुओं के और भी कई गुने अधिक रूप बन जाते हैं।  
हर मनुष्य का हर वस्तु के बारे में अपना अलग सत्य होता है।
ये सत्य भी मानव के उस एक क्षण के और एक मानसिक स्थिति के लिए ही होता है।
तो क्या संसार में सब कुछ सत्य ही है? असत्य कुछ भी नहीं?
कदाचित।  
______________________________________________________


______________________________________________________

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

एक ख्वाहिश ऐसी

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी, ऐसी ऐसी, ऐसी ऐसी कि पूछो मत कैसी कैसी बेहद अजीब हों जैसी बिल्कुल नामुमकिन हों वैसी कभी कभी तो  मुझे  लगता है  मैंने कह...