शनिवार, 25 जुलाई 2015

धागा, एक ख्याल का

कुछ तो गिला है उनके  चले जाने का 
कुछ ये ग़म कि ये लोग मरते ही नहीं

ज़िन्दगी अगर उदास है उनके बग़ैर 
तो इनकी वजह से मौत भी है शर्मसार,

वो तो फैला देते थे बहारें मोहब्बत की 
इनसे सुलग जातीं हैं चिंगारियां नफरत की 

कितना फर्क़ है 'दोस्त' इस दुनिया के इंसानों में 
वो अगर भगवान् थे, तो ये शामिल हैं हैवानों में

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

एक ख्वाहिश ऐसी

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी, ऐसी ऐसी, ऐसी ऐसी कि पूछो मत कैसी कैसी बेहद अजीब हों जैसी बिल्कुल नामुमकिन हों वैसी कभी कभी तो  मुझे  लगता है  मैंने कह...