सोमवार, 20 जुलाई 2015

प्रकाश दर्शन

क्या सच है क्या झूठ
क्या प्रकाश की ओर बढ़ना ही सत्य है
क्या अंधकार में रहना सर्वथा मिथ्या है
क्या अंधकार ही मिथ्या है
क्या अंधकार में जीवन बिताना मूर्खता है
क्या अंधकार और प्रकाश के बीच एक समझौता नहीं हो सकता
इनके बीच कोई रास्ता नहीं निकल सकता
जहाँ से मैं कहीं भी जा सकूँ

कभी कभी मुझे एक ओर तीव्र प्रकाश दिखाई देता है
जो मुझे अपनी ओर खींचता है
उस ओर बढ़ता हूँ
तो बीच में एक पारदर्शी दीवार से टकरा जाता हूँ
वो दीवार मुझे रोक देती है
आगे नहीं जाने देती
शायद वो चाहती है कि मुझे कहीं प्रकाश की आदत न पड़ जाये
ऐसा न हो कि मैं प्रकाश के बिना रह न सकूँ
जबकि अँधेरा ऐसा नहीं सोचता
वो मुझे चारों ओर से घेरे रखता है
एक सुरक्षा कवच की तरह
अँधेरे में मैं कहीं भी जा सकता हूँ
वहां कोई दीवार नहीं होती
फिर भी जाने क्यों
मेरे अंदर ही कोई शक्ति मुझे
अँधेरे से प्रकाश की ओर जाने के लिए प्रेरित करती रहती है
इन दो शक्तियों के बीच मुझे वो रेखा ढूढनी होगी
जहाँ दोनों का मेल हो एक ओर प्रकाश हो
और दूसरी ओर अँधेरा हो
वहां मैं शांति से ऑंखें बंद करके बैठ सकूँ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

एक ख्वाहिश ऐसी

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी, ऐसी ऐसी, ऐसी ऐसी कि पूछो मत कैसी कैसी बेहद अजीब हों जैसी बिल्कुल नामुमकिन हों वैसी कभी कभी तो  मुझे  लगता है  मैंने कह...