शुक्रवार, 31 जुलाई 2015

ये भी...?

हेलो, कैसे हो?
ठीक हूँ
आज क्या इरादा है?

आज? आज कुछ अलग करते हैं
अलग? मतलब?
मतलब अलग जैसे कि ...
हाँ हाँ जैसे कि क्या ?
चलो आज कुछ सोचते हैं
सोचें? मगर ...
अरे ओरिजिनल आईडिया, बिल्कुल क्रियेटिव
बैठ जायें?
हाँ ठीक है
खडे खड़े तो मुश्किल हो जाएगा

काफी वक्त लग सकता है
अखिर सोचना है कोई मज़ाक तो नहीं
पहली बार भी है ना, सोचना 
ठीक है आओ बैठो
अच्छा तो बताओ क्या सोचें?
क्या मतलब?
मतलब ये कि किस चीज़ के बारे में सोचें?
ओहो! तो ये भी सोचना पड़ेगा ?



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

एक ख्वाहिश ऐसी

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी, ऐसी ऐसी, ऐसी ऐसी कि पूछो मत कैसी कैसी बेहद अजीब हों जैसी बिल्कुल नामुमकिन हों वैसी कभी कभी तो  मुझे  लगता है  मैंने कह...