शुक्रवार, 31 जुलाई 2015

उचित जीवन

ये जो जीवन है 
जीवन में जो संतोष है 
संतोष में जो आनंद है 
सुख है 
उस सुख से मानव विश्वस्त रहता है 
आतंरिक विश्वास भय को दूर करता है
निर्भयता और विश्वास से मानव सही निर्णय करता है
जो सही निर्णय करता है वो जीवन में सदैव आगे बढ़ता है
आगे बढ़ना ही सफ़लता है
सफ़लता सुखी जीवन की कुंजी है
वो जीवन जिसमें संतोष है...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

एक ख्वाहिश ऐसी

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी, ऐसी ऐसी, ऐसी ऐसी कि पूछो मत कैसी कैसी बेहद अजीब हों जैसी बिल्कुल नामुमकिन हों वैसी कभी कभी तो  मुझे  लगता है  मैंने कह...