रविवार, 19 जुलाई 2015

अब भी... कभी कभी

मिल जाते हैं अब भी वो लम्हे कभी कभी
जिनके साथ बैठ, दो लम्हे गुज़ारे थे कभी 

ये वक़्त जो सबसे ही मुंह मोड़ लेता है 
इसी वक़्त ने कीमती तोहफे, दिए थे कभी 

दोस्तों की वो बातेंबिलावजह हंसना हंसाना 
बिलावजह ज़हन में  जाती हैं, कभी कभी

काफी कुछ होना है शायद जिंदगी में अभी भी 
पर ये वक़्त ही ठहरा सा लगता है कभी कभी

चाल की तेज़ी, बातों की रफ़्तारख्यालों की रवानी
सब कुछ धीमा सा लगता है, मुझको कभी कभी 

अब तो जो भी ज़िन्दगी में होना बाकी है 'दोस्त'
शायद उसी की कमी महसूस होती है कभी कभी



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

एक ख्वाहिश ऐसी

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी, ऐसी ऐसी, ऐसी ऐसी कि पूछो मत कैसी कैसी बेहद अजीब हों जैसी बिल्कुल नामुमकिन हों वैसी कभी कभी तो  मुझे  लगता है  मैंने कह...