रविवार, 12 जुलाई 2015

वो अजब एहसास

हम सोये जागे साथ साथ
पूरी रात, मेरा हाथ
तुम्हारे हाथ को,
कंधे को, पीठ को
कभी कोहनी को...
कहीं न कहीं छूता रहा
वो भी अजब चीज़ थी 'दोस्त'
अगर हाथ लगा तो
नींद आ गयी
और अलग हुआ
तो खुल गयी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

एक ख्वाहिश ऐसी

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी, ऐसी ऐसी, ऐसी ऐसी कि पूछो मत कैसी कैसी बेहद अजीब हों जैसी बिल्कुल नामुमकिन हों वैसी कभी कभी तो  मुझे  लगता है  मैंने कह...