गुरुवार, 21 जनवरी 2016

नासमझ समझ

तन्हाई की तक़लीफ़,
परेशान न कर पायी मुझे
जुदाई की ज़हमत,
रुला ना पायी मुझे
ऐसा भी नहीं कि मैं ही
पत्थर-दिल हूँ
पर इस दिल की अगन
झुलसा न पायी मुझे
वो भी एक वक़्त था
कि हम उम्मीदों का शौक़ रखते थे
बैठे बैठे खिड़की पे
तुम्हारी राह तकते थे
इंतज़ार में पथरायी ऑंखें
रुला न पायीं मुझे
अब क्या कहें 'दोस्त'
कि क्या था हमारे बीच
क्या ये वो था
जो तुम नहीं समझे
या वो जो समझ न आया मुझे

शनिवार, 16 जनवरी 2016

... तो कितना अच्छा होता

अगर उसे सीने से न लगाया होता
अपना न बनाया होता
तन्हाई से न घबराया होता 
तो कितना अच्छा होता, तो कितना अच्छा होता 

उसके चेहरे पे न ये दिल आया होता 
उसकी चाहत ने मुझे न भरमाया होता 
न उसे सर आँखों पर बिठाया होता 
तो कितना अच्छा होता, तो कितना अच्छा होता 

उसकी दोस्ती ने दिल को न उलझाया होता 
सोचने की ताक़त को न डुबाया होता
एक के लिए सबको पराया न बनाया होता
तो कितना अच्छा होता, तो कितना अच्छा होता 

मैं अगर बन्दर के आगे न बढ़ पाया होता 
मैंने अगर बारूद को न 'दोस्त' बनाया होता 
मैंने ज़मीं को नक़्शा न बनाया होता 
तो कितना अच्छा होता, तो कितना अच्छा होता

कहानी, एक पुरानी

 नमस्कार महोदय नमस्कार, जी आप... कौन? पहचाना नहीं मैंने।  जी मैं एक दूत हूँ। नदी के तट पर जो धर्मशाला है वहां से आया हूँ।  इतनी दूर से? जी क...